शनिवार, 6 फ़रवरी 2010

शादी तीन रिग्स वाला सर्कस है


अंकल जी आंटीजी संपत का प्रणाम स्वीकार करे। आप लोगो से बहुत अंतराल के बाद मिलना हो रहा है । पर आपको मन ही मन रोजाना याद करता रहता हु। में मेरी दीदी की शादी में व्यस्त था । खूब धमाल मचाई । धमाल चोकड़ी जम गई थी । घर परिवार के सभी लोग नए नए कपड़े, जुते, परफ्यूम वगैहरा-वगहेरा रोजाना यूज करते थे । मै भी करता था। रोजाना बनने वाले नए नए पकवान तो मजेदार थे ही ....लन्दन वाले ताऊजी तो ब्रिजवासी के बड़े बड़े "गुलाम-जामुन" आठ-दस चट कर जाते थे । भले ही उन्हें डाइबिटिज थी खाने के पहले इन्शुलिन का इंजेक्शन लेना नहीं भूलते थे। ताई समझाती तो वो कहते थे-" अरे भाग्यवान ! अपने देश आया हु अब मै दिल खोल कर खाउगा।" मै तो मेरी फेवरेट चाइनीज डिस - मंचूरियन, हका नुडल्स, चाइनीज भेल, सीताफल आइसक्रीम खा खाकर मोटा भी हो गया हु।

दीदी अपनी शादी के मेकप में इतनी व्यस्त थी की खाना पीना तो छोड़ सा दिया था। मेकप-मेकप पूरा दिन बस वो ही चल रहा था। यह साडी पर चपल कोनसे कलर की मैच करेगी। रिस्पेसंस मै कोनसा वेश पहनू ? राहुल जीजाजी के सूट के कलर से मैचिंग मगवाई गई तब जाकर वेस (शादी का जोड़ा) फाइनल हुआ जो पुरे एक लाख था । तभी भी दीदी को चैन नही ! अब मेकप मैंन की खोज जारी हुई ! दो तिन दिन की कड़ी मेहनत के बाद आखिर में पूना की एक मेकपवाली फाइनल हुई । मेकप का कोंसेप्ट था लाईट बेगनी साडी जोड़े के साथ राहुल जीजाजी के डार्क मैच सूट को फोलो करना। पुरे ३२०००/ में फाइनल हुई मेकपवाली बाई! दीदी ने गहरी सांस छोड़ते हुए कहा-" अब सभी फाइनल होगया बस अब मेहंदी वाली बाकी रह गई ।" मैंने सोचा -"बाप रे बाप शादी में इतना झमेला ?
मैंने दीदी से कहा-" दीदी-दीदी, अब तो आप खाना खा लो... पर दीदी कहा सुनाने वाली थी वो तो फिर हेयर कटिग के लिए चल दी।
मै दुखी मन से बर्फ गोला खाने लगा. तभी दीदी की सहेलिया पास की कुर्सियों पर बैठ हंसी ठिठोलीया कर रही थी।
मानसीदीदी बोल रही थी-" शादी तीन रिग्स वाला सर्कस है-
एंगेजमेंट रिंग , वेडिंग रिंग, और सफरिंग....."
सभी सहेलिया हंसने लगी..........!
रागनी दीदी बोली -" पुरुष उस महिला के पीछे क्यों दोडते है जिससे शादी करने का कोई इरादा नही हो ?
पास में बैठी मानसी दीदी -" ठीक वैसे ही , जैसे कुत्ते कार के पीछे दोडते है जबकि उनका ड्राइव करने का कोई इरादा नही होता है।" मुझे जोर से हंसी आई..... तभी मानसी दीदी बोली -"संपतियाबदमाश ! क्या सुन रहा है ? बच्चो के काम की बाते नही है।" मै वहा से भाग खडा हुआ ....

शादी में बड़ा झमेला लगता है। टेशन .......फुल टेशन ...........ये करो....वो करो....
उसे बुलाओ......उसे ना बुलाओ.....उसको कार्ड देने भेजो......उसका कवर इतने का ही रखो.... खाने में यह बनाओ ... छोटी ताईजी नाराज है उन्हें जो कमरा मिला है उसमे ऍसी नही है। क्यो की बडीताईजी के रूम मे तो ऍसी लगा हुआ ।
बड़े पापा बेचारे अपनी बिटिया रानी की शादी में खाना पीना ही भूल गए है या तक की दाढ़ी भी बनाने का समय नहीं मिल पाता है।


साईट आफ डे
क्या पहने,कसे संवरे, कैसे मेकप करे इन सभी बातो को लेकर दुल्हन के मन में ढेरो टेंसन होती है. हर सहेली हर दोस्त से सलाह लेने के बाद भी उलझन खत्म हो, एसा कम ही होता है. मई आपके लिए इसी वेब साइटों के पत्ते ढूढ़ लाया हु की आप लोगो का भली भाति गाइडेंस कर सके. स्टाइल टिप्स से लेकर स्किन केयर, पर्स ज्यूलरी तक के लेटस्ट ट्रेंड मिलेंगे यहाँ आपको.

http://www.modelbride.com/
http://www.makeupartistpro.com/
http://www.beautyassist.com/

निचे दी गई वेब साईट दूल्हो के लिए ख़ास है और दुल्हनो के लिए भी...
http://www.wedding.iloveindia.com/

5 टिप्पणियाँ:

Udan Tashtari ने कहा…

तीन रिग्स वाला सर्कस :)

अच्छा चित्रण किया शादी ब्याह के घर का.

6 फ़रवरी 2010 को 7:40 pm
अल्पना वर्मा ने कहा…

rochak!

6 फ़रवरी 2010 को 9:39 pm
रंजन ने कहा…

हा हा..

7 फ़रवरी 2010 को 7:05 am
डॉ. रूपचन्द्र शास्त्री मयंक ने कहा…

आपकी पोस्ट बहुत सुन्दर है!
यह चर्चा मंच में भी चर्चित है!
http://charchamanch.blogspot.com/2010/02/blog-post_5547.html

7 फ़रवरी 2010 को 7:21 am
INDRADHANUSH ने कहा…

गाईड करने आैर हौसला बढ़ाने के िलए बहुत बहुत शुकि्या। मैं आप सब से एक आैर मदद चाहती हंू, क्या एेसा कोई टूल आपलोग जानते हैं जिसकी मदद से वड फारमेट में कृतिदेव फान्ट में टाईप सामग्री को ब्लाग में प्रकाशित करने के लिए कन्वट किया जा सके।

8 फ़रवरी 2010 को 1:36 pm

एक टिप्पणी भेजें

SELECTION-COLLECTION पर आपका हार्दिक स्वागत है जी!
SELECTION-COLLECTION पर आप पधारे इसलिऐ आपका शुक्रिया।
आप हमारे लिऐ अति-महत्वपुर्ण है।
आपके दो शब्द कमेन्ट के रुप मे मिल जाऐ तो हमे खुशी होगी।
आभार